संथाल की राजनीति में निशिकांत का “जंगा -आरुअ”

गोड्डा (संथाल परगना): संथाल समाज में एक प्रथा है- जब कोई बड़े-बुजुर्ग या मेहमान थके- हारे गाँव पहुचते हैं तो लोग एक थाली में

Read more