गोड्डा में अडाणी के लोगों ने फसलों को रौंदा , किसान पैर पकड़ रहे

गोड्डा (झारखण्ड):

गुजरात के एक उद्योगपति अडाणी झारखण्ड के गोड्डा जिले में जिस पॉवर प्लांट को लगाने जा रहे हैं वहाँ सरकारी तंत्र और कंपनी के लोगों द्वारा किसानों के कथित दमन की बात अब खुलकर सामने आ रही है.

जानकारी के मुताविक कुछ आदिवासी गाँव के लोग जो अडाणी को अपनी जमीन नहीं देना चाहते उनकी धान की खडी फसलों को रौंद दिया गया.

झारखण्ड के प्रथम मुख्यमंत्री और झारखण्ड विकास मोर्चा सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने कहा कि लगभग 16 बीधे उस जमीन को रौंद दिया गया जिसमें धान की फसल लगी हुई थी.

मालूम हो कि संथाल परगना में सिर्फ एक फसल धान ही होती है. यहाँ सिचाई की कोई व्यवस्था नहीं रहने के कारण किसान मानसून पर निर्भर हैं. यदि फसलों को तवाह किया गया तो पलायन ही उनके लिए एक मात्र रास्ता होगा.

अडाणी को पॉवर प्लांट लगाने के लिए सरकार जो जमीन देना चाह रही है उसमें शुरू से ही विवाद हो रहा है. आरोप है कि जैसे-तैसे मीटिंग कर सरकार ने जमीन लिये.

झारखण्ड विकास मोर्चा के विधायक प्रदीप यादव ने जब इस मुद्दे पर विरोध और अनशन किया तो उन्हें जेल में डाल दिया गया. इससे स्थिति और भी भयावह बनी.

बाबूलाल मरांडी ने कहा कि झारखण्ड में भाजपा की सरकार इस तरह से व्यवहार कर रही है मानो ब्रिटिश राज हो. मरांडी एक सप्ताह बाद इस इलाके का दौरा कर सकते हैं.

जो तस्वीर गोड्डा से आ रही है उसमें गाँव की महिलाओं को अडाणी के लोगों के पैर पकड़ते देखा जा रहा है ताकि वे उनकी जमीन न लें.

सबसे बड़ा आरोप यह लग रहा है कि अडाणी यहाँ से बिजली बनाकर बांग्लादेश को भेजेंगे. मरांडी ने कहा कि इससे झारखण्ड को तबाही ही मिलेगी, जब बिजली बांग्लादेश चली जाएगी.

झारखण्ड मुक्ति मोर्चा भी अडाणी के खिलाफ मैदान में उतर चुका है. पूर्व मुख्यमंत्री और जेएमएम नेता हेमंत सोरेन भी गोड्डा पहुचकर स्थिति का जायजा लेने आ रहे हैं.

इससे पहले संथाल परगना में दो बार पॉवर प्लांट और भी लगाने की कोशिश की गयी थी, पर लोगों ने अपनी जमीन नहीं दी. सन 2008 में बंगाल के आर पी जी ग्रुप ने दुमका के काठीकुंड में जब पॉवर प्लांट लगना चाहा तो वहाँ विरोध के बाद गोलियां चल गयी.

फिर 2013 में जिंदल ग्रुप ने गोड्डा के सुन्दर पहाडी में एक पॉवर प्लांट का शिलान्यास पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से कराया. पर वे भी सफल नहीं हुए.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *