सृजन घोटाला : भागलपुर के घूसखोर डीएम ने शहर को जहिलाना रूप दिया

भागलपुर:
सृजन घोटाला ने कभी भी भगलपुर के भोलानाथ पुल के नीचे की सड़क बनने नहीं दी.
इस सड़क की लम्बाई मात्र एक सौ फीट है.
लोग कहते हैं कि यहाँ बरमासिया जल जमाव रहता है. यह सड़क रेलवे ब्रिज के नीचे से जाती है. मिरजान और उसके आस पास के मुहल्ले में जाने के लिए इसी रस्ते से लोगों को जाना होता है, जहाँ की जनसंख्या लगभग चार लाख है.
भागलपुर के किसी भी जिलाधिकारी ने इस 100 फीट की सड़क को आजतक नहीं बनाया.
अब आरोप लग रहा है कि इस पुल के नीचे की सड़क के निर्माण के नहीं होने के पीछे भी सृजन घोटाला ही था.
“सरकार ने एक से बढ़कर एक धूसखोर जिलाधिकारी भागलपुर को दिए जिनका काम सिर्फ नेताओं और अफसरों के लिए सृजन के माध्यम से पैसे जमा करना था,” मिरजान की जनता आज यही आरोप आज लगा रही है.
सृजन भागलपुर का एक एनजीओ है जिसने बिहार सरकार द्वारा भागलपुर के विकास के लिए भेजे गए लगभग सभी पैसे को अपने खाते में डाल लिया. वहां से फिर जिन्होंने लूटा उसमें एमपी, एमएलएल, जिलाधिकारी और अनेक अफसरों, ठेकेदारों और पत्रकारों के नाम सामने आ रहे हैं. लेकिन इन पैसों की सुरक्षा तो जिलाधिकारियों को ही करनी थी? यह सब 40 साल से गुप्त रूप से होता रहा.
अब इस घोटाले की जांच सीबीआई कर रही है.
भागलपुर शहर में एक भी सड़क ठीक नहीं है. शायद ही किसी पोल में रात को बिजली जलती हो. कूड़े का तो अम्बार लगा रहता है. कोई ट्राफिक सिस्टम नहीं है. बस स्टैंड लोगों के सौचालय की जगह है. लोग कोयला डेपो में जहाँ से बस पकड़ते है वहीं पर पखना-पेशाब भी करते हैं.
भागलपुर के जिलाधिकारियों और जन-प्रतिनिधियों ने इस शहर को एक जाहिलाना रूप दे दिया है. क़ानून व्यवस्था इतनी खराब है कि यह शहर पूरी तरह से लुच्चों से पटा पडा है. इसपर कभी ध्यान नहीं दिया गया कि अधिकारी सृजन के माध्यम से पैसे उड़ने में लगे थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *