एक साथ इतने बलात्कारी देखा है कहीं, यह झारखण्ड का दुमका है

दुमका:
दुनिया में किसी एक लडकी के साथ किए गए दुष्कर्म के मामले में इतने आरोपियों को शायद ही पुलिस ने कभी एक साथ पकड़ा होगा, जितना कि झारखण्ड की उप-राजधानी दुमका में पकड़ा है.
एक आदिवासी लडकी के साथ दुमका के मुफस्सिल इलाके में हुए दुष्कर्म के मामले में शुक्रवार को पुलिस ने 16 बलात्कारियों को पकड़ा जबकि अभी एक और फरार है. इनमें अधिकांश आदिवासी और अल्पसंख्यक लड़के हैं.
यह घटना गुरुवार की रात दुमका शहर से थोड़ी ही दूर घटी जब एक लडकी अपनी नौकरी पर से वापस घर लौट रही थी.
पूरे झारखण्ड का महिला संगठन चुप है. वे पत्रकार भी चुप हैं जो पत्रकारिता का झंडा उठाये फिरते हैं. नेता भी चुप हैं. आज उप-राष्ट्रपति वेंकया नायडू झारखण्ड में ही थे, उनके सम्मलेन में आये तमाम ओहदेदार भी चुप हैं. सिर्फ स्थानीय अखबार ही इस घटना को मुद्दा बनाये हुए है, जिनकी पहुच बहुत दूर तक नहीं है.

जो आदिवासी नेता एक छोटे से अपने मुद्दे पर हथियार लेकर सड़कों पर आ जाते है उन्होंने भी अपने मुह में ताला लगा रखा है. दुमका की कुछ महिला संगठन, जो सिर्फ फोटो खिचवाने में माहिर हैं, उन्होंने खुद को किनारा कर लिया.
यह माजरा अम लोगों के समझ से परे हैं. उनसे भी दूर है जो दिल्ली से मीडिया को चलाने का दावा करते हैं. अभी वे दक्षिण भारत में हुई एक कथित महिला पत्रकार की ह्त्या की जड़ तलाश रहे हैं.
दुमका के एसपी मयूर पटेल ने जिस तेजी से अपराधियों को पकड़ा वह तारीफ करने लायक है. दुमका पुलिस की लोगों को पीठ थपथापानी चाहिए पर लोगों का कोई रिएक्शन नहीं है. कुछ लोग पीडिता के लिए नौकरी की मांग कर रहे हैं. अपना खाना पूर्ति कर रहे हैं.
यह रघुबर का झारखण्ड और समाज कल्याण मंत्री लुईस मरांडी का दुमका है. मामला एक ख़ास समुदाय से जुड़ा है तो वे भी पीछे हैं. क्या राजनीति है ? वोट नहीं मिलेगा तो बलात्कार पर भी चुप!
क़ानून अपना काम कर रहा है. कुछ दिनों पहले दुमका में ही एक होस्टल की लडकी को नंगा कर उसकी सहेलियों ने फोटो बनाया था. रांची और दुमका की महिलाओं की कई टीम आकर उसके साथ फोटो खिचवाई थी. इस बत्तमिजी के लिए किसी को कुछ नहीं हुआ. यही दुमका है.

One thought on “एक साथ इतने बलात्कारी देखा है कहीं, यह झारखण्ड का दुमका है

  1. दुःखद,
    यहाँ पत्रकार नहीं,पैरोकार है
    ये क्या बोलेंगे..
    बहुत सही लिखा।।
    धन्यवाद

    राजेश कृष्ण
    रांची, स्वतंत्र पत्रकार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *