संथाल परगना के लिए नई नीति बने वरना आन्दोलन होगा: बाबूलाल

दुमका:
झारखण्ड विकास मोर्चा सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी अपने अनुभव के आधार पर यह परख रहे हैं कि वर्त्तमान सरकार में बैठे लोग किस तरह से संथाल परगना के आदिवासियों को हासिये पर लाने की कोशिश में लगे हैं.
बॉर्डर न्यूज़ से एक खास बातचीत में उन्होंने कहा को झारखण्ड की वर्त्तमान सरकार जिस तरीके से संथाल परगना के आदिवासियों की आर्थिक और सामजिक जीवन से खिलवाड़ कर रही है उसे बचने के लिए उनकी पार्टी को अब संथाल हुल की तरह एक आन्दोलन शुरू करना होगा.
“1855 में इसी संथाल परगना की भूमि से सिधो-कान्हू और चाँद –भैरो ने कॉलोनियल शासन के खिलाफ आन्दोलन इसलिए किया था कि संथाल समाज को अंग्रेजों द्वारा ख़त्म करने की कोशिश की गयी थी. आज उसी तरह झारखण्ड की वर्त्तमान सरकार भी आदिवसियों को जमीन से बेदखल कर रही है. ऐसे में हमारी पार्टी का दायित्व बनता है कि इस भयादोहन को रोका जाये,” मरांडी ने मंगलवार को दुमका में बॉर्डर न्यूज़ से कहा.
उन्होंने कहा कि दरअसल यह हक़ और अपनी जमीन को बचने की लड़ाई है. झारखण्ड मुक्ति मोर्चा जिसने किसी ना किसी प्रकार 2006 से 2014 तक इस राज्य में राज किया आदिवासियों की बर्वादी का कारण बनी है.
“जेएमएम और भाजपा के राज में ही संथाल परगना में पैनाम कोल माइंस की शुरुआत हुई. उस समय स्टीफन मरांडी राज्य के वित्त मंत्री थे. उन्होंने पैनाम कोल माइंस के दस्तावेजों पर दस्तखत कर सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दायर किया था. आज उन आदिवासियों को देखिये जिन्होंने अपनी जमीन दी थी. आज उनकी हालत भिखारियों जैसी है,” मरांडी ने चिंता जाहिर की.
उन्होंने कहा कि वे दरअसल में सिधो-कान्हो जैसी ही एक लड़ाई संथाल परगना में लड़ना चाहते हैं ताकि आदिवासियों को पूरी तरह से ख़त्म होने से बचाया जा सके.

मरांडी ने कहा कि राजमहल से लेकर रानेश्वर तक पहाड़ों को झारखण्ड सरकार ने लीज पर दे रखा है. पत्थर माफिया इस तरह भयादोहन कर रहे है कि पहाड़ों के अस्तित्व ही समाप्त हो रहे हैं.
उसी तहर ललमटिया से लेकर शिकारीपाड़ा तक कोयले के खदान को बेचा जा चुका है. बाहर के लोग जब संथाल परगना के सारे खनिज निकाल लेंगे तो इन इलाके ले लोगों का क्या होगा यह एक गंभीर विषय है.
बाबूलाल ने कहा कि संथाल परगना के लिए एक अलग नीति बनानी चाहिए ताकि इस प्राचीन इलाके की रक्षा की जा सके. यदि सरकार ने ऐसा नहीं किया तो उनकी पार्टी सिदो –कान्हू के तर्ज पर आपनी लढाई सुरु करेगी. मरांडी ने कहा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *