झारखण्ड में स्कूल शिक्षकों की धूर्तता, लगेगी फोटो उनकी

झारखण्ड में स्कूल शिक्षकों की धूर्तता इन कदर बढी हुई है कि मुख्यमंत्री रघुबर दास को अपने सभी उपायुक्तों के एक नया फरमान जरी करना पडा जिसमें अब सभी स्कूलों में गुरुओं को अपने आधार कार्ड वाले फोटो लटकाने होंगे ताकि छात्र-छात्राएं और ग्रामीण भी यह जान सकें कि असली और नकली गुरूजी कौन है.

मुख्यमंत्री रघुबर दास ने स्वयं अपने अधिकारिओं को बताया कि उनके राज में हो यह रहा है कि स्कूल टीचर अपनी जगह किसी दूसरे को स्कूल भेज देते हैं और महीने के अंत में उन्हें कुछ पैसे देकर सारा वेतन उठा लेते हैं.

“झारखण्ड में यह अपने प्रकार का एक अलग घोटाला है. सरकार बिना सोचे-समझे जब नियुक्तियां करती हैं तो शायद यही होता है. कोई पहचने या ना पहचाने कम से कम स्कूल के प्रिंसिपल तो अपने शिक्षकों को जरूर पहचानते होंगे,” बच्चों के माता-पिता का यह आरोप है.

झारखण्ड के मुख्यमंत्री ने अपने अधिकारियों से “सीधी बात” नमक एक कार्यक्रम के दौरान इस बात का खुलासा किया कि शिक्षा के क्षेत्र में उनके राज में हो क्या रहा है.

उन्होंने सभी उपायुक्तों को निर्देश जारी करते हुए कहा कि एक माह के भीतर सभी शिक्षकों के तस्वीर, जो उनके आधार कार्ड में  हैं, स्कूल में लग जानी चाहिए.

e.o.m

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *